Sunday, December 13, 2020

Mahesh Kaushik Automated Google Finance Sheet For Turtle Trading with Advanced Filter

 Rule of Turtle Trading:- 

1. Buy on 55 Days High.

2. Book Profit or Loss on 20 Days Low.

Watch this You Tube Video for more details:-

https://www.youtube.com/watch?v=fv48GXn-e9o


(इस पोस्ट के नीचे के भाग में हिन्दी में बगैर स्टाॅप लाॅस की टर्टल ट्रेडिंग का वर्णन किया है।)

My Automated google finance sheet link for turtle trading:- ( Raw Sheet with formulas but slow loading):-

https://docs.google.com/spreadsheets/d/1668Tn8Z0BVssBj-2fcubvYF1ZwLZo7Ugu7kY0_YYGIE/edit?usp=sharing

( for copy this sheet click on file menu then click "make a copy", save it with a new name, this will copy this sheet in your google drive and you can able to open it and edit it).


Fast Loading Web Page View Link of turtle trading automated sheet:- ( Web page view load fast but you can unable to edit and copy formulas in web page view).

https://docs.google.com/spreadsheets/d/1XBJg5xwpuTuEQXYJZWbL-pAzN_IM3A1kOTXC_iW0S0c/edit?usp=sharing

Video about daily recommendation automated sheets:-

Part 1

Part 2

Turtle Trading Without Stop Loss

I personally do not believe in putting a stop loss. In my video of Turtle Trading, I told about the stop loss because turtle trading is not my invention and in its original form, the stop loss is put on 20 days low and there is no harm in it.

Because we knew that in any trading method with stop loss it is normal that some stocks hit stop loss. 

But, personally, I am not a supporter of stop loss. Why? Because you may have read such reports from brokerage houses that "our highest account holder investors hold this  XYZ share". 

This means that I understand that where our demat account, they know at which price our stop loss is. They also know that the maximum number of people on which price put there stop loss. Now I do not want to explain further, but the wise people have enough to understand what I want to say?. I would not like to play cards by showing my cards while playing cards (by the way I did not play cards but played in my childhood). That's why my wife (who does turtle trading,)  do not put a stop loss at 20 days low because I have advised her to only trade turtles in ETF and Nifty 100 shares and invest a maximum of 10000 rupees in one share at a time. 

After that, if she gets a profit above 10 percent, which has been found in many shares in the past, then she goes out of her hands by booking a profit and we can rotate this money. 

Those who are my old follower's know-how in 2017 we used to put a stop loss below 5 percent of the 200 DMA, and every time the stock broke our stop loss. 

If any share of the holding has fallen by more than 10 percent, after that it is back in the list of feeding the price for Turtle Trading, then we will start filling GTT order back in it to avail it, no matter that we invest more 10,000 in average out, we should keep such a backup amount that if we have to take shares for 3 times from this method, then we can take it. 

It is necessary to mention here that I had invested a maximum of 100000 in 185 shares of UPL by putting 10,000 at once from Darvas Box Theory. I had a maximum limit of 1 lakh in a share and I had averaged 10 times from Darvas Box Theory after that, at one time, I had a loss of more than 25000 in UPL but I kept it on hold and took a dividend of 1111 rupees and today ( 18 Jan 2021) all 185 shares I  have sold with 3600 rupees profit.

  That is why my wife takes shares of ETF and Nifty 100 from Turtle Trading but sells them by herself, we do not sell with the help of any stop loss. 

You have to decide for yourself whether you have a stop loss or not, but we only invest 10000 in stock and keep so much backup for an average out of 2 to 3 times ( after falling off more than 10 percent in any share.) 

If we get between 10 and 15 percent profits in Turtle Trading, then we take it peacefully and rotate the original money. Overall, we use it in such a way that if the price of stock is reduced from 10 percent to 20 percent from the 55-day high, then we start placing GTT orders daily, updating it according to the latest 55-day high after the order is triggered. If you get 10 to 15 percent profit, then book if the stock falls, and if the stock falls more than 10 percent from our purchase price, you will do an average of 3 times at a high price of 55 days and it is necessary to have at least 10-10 percent difference in each average. 

And we do not keep a low 20-day stop loss and only do Turtle trading in ETF and Nifty 100 stocks. 

This whole story has been told because many e-mails and comments were coming on this subject that when the followers are doing backtest then in some stocks like Hindustan Unilever and ONGC, sometimes the stop loss is getting hit at 20 days low. 

बगैर स्टाॅप लाॅस की टर्टल ट्रेडिंग

मैं व्यक्तिगत रूप से स्टाॅप लाॅस लगाने में विश्वास नहीं करता । मेरे टर्टल ट्रेडिंग के वीडियो में मैनें स्टाॅप लाॅस लगाना बताया क्यों कि टर्टल ट्रेडिंग मेरा आविष्कार नहीं है तथा इसके मूल स्वरूप में 20 दिन के लो पर स्टाॅप लाॅस लगाया जाता है तथा इसमें वैसे कोई बुराई भी नहीं है क्यों कि किसी भी ट्रेडिंग में आपकी विधि कितनी ही अच्छी हो कुछ शेयरों के स्टाॅप लोस हीट भी होते हैं। 

परन्तु मैं व्यक्तिगत रूप से स्टाॅप लाॅस का समर्थक नहीं हूं। क्यों? क्यों कि आपने ब्रोकरेज हाउसों की ऐसी रिर्पोटें पढ़ी होगी कि इस शेयर को हमारे सबसे ज्यादा खाताधारक निवेशक होल्ड करते हैं। इसका मतलब मैं यह समझता हूं कि जहां अपना डी मैट खाता है उनको पता होता है कि हमारा स्टाॅप लाॅस किस प्राईस पर है। उनको यह भी पता होता है कि अमुक शेयर में इस प्राईस पर अधिकतम लोगों का स्टाॅप लोस है। 

अब मैं आगे ज्यादा व्याख्या नहीं करना चाहता पर समझदार लोगों को ईशारा काफी होता है। मैं ताश खेलते समय पते दिखाकर ताश खेलना नहीं चाहुंगा ( वैसे में ताश नहीं खेलता पर बचपन में खेले थे)। 

इसलिये मेरी पत्नी जो टर्टल ट्रेडिंग करती है उसमें मैं 20 दिन के लो पर स्टाॅप लाॅस नहीं लगवाता क्यों कि मैने उसको सिर्फ ईटीएफ व निफटी 100 के शेयरों में टर्टल ट्रेडिंग करने की राय दी है तथा एक बार में एक शेयर में अधिकतम 10000 का निवेश करती है उसके बाद उसको यदि 10 प्रतिशत से उपर मुनाफा मिल जाता है जो पिछले दिनों में बहुत से शेयरों में मिला भी है तो वो अपने हाथों से प्रोफिट बुक करके निकल जाती है तथा इस पैसे को हम रोटेट कर सकते हैं। 

जो मेरे पुराने फाॅलोवर है वों जानते हैं कि 2017 में कैसे हम 200 डीएमए के 5 प्रतिशत नीचे स्टाॅप लोस लगाते थे तब हर बार स्टाॅक हमारा स्टाॅप लाॅस तोड़कर उपर निकल जाता था। यदि सीमा का कोई शेयर 10 प्रतिशत से ज्यादा गिर गया उसके बाद वो वापस टर्टल ट्रेडिंग के लिये प्राईस फीड करने की सूची में आ गया तो हम उसको ऐवरेज करने के लिये उसमें वापस जीटीटी Order भरना प्रारंभ कर देगें क्या फर्क पड़ेगा ज्यादा से ज्यादा 10000 की जगह 20000 के शेयर हो जायेगें हमें इतना बैकअप रखना चाहिये की हमें इस विधी से 3 बार तक शेयर लेना पड़े तो हम ले सकें । अब 3 बार शेयर उसके 55 दिन के उच्चतम स्तर को पार करके 10 प्रतिशत से ज्यादा गिरेगा फिर हम तब ऐवरेज करेगें जब वो फिर से अपने 55 दिन के उच्चतम स्तर पर होगा ऐसा करते करते वो ही शेयर ऐवरेज होगा जिसमें कुछ दमखम होगा। 

यहां यह बताना जरूरी है कि मैनें डारवस बाॅक्स थ्यौरी से एक बार में 10000 लगाकर यूपीएल के 185 शेयरों में अधिकतम 100000 का निवेश किया था। एक शेयर में 1 लाख मेरी  अधिकतम सीमा थी तथा मैं डारवस बाॅक्स थ्यौरी से 10 बार ऐवरेज कर चुका था उसके बाद एक समय यूपीएल में मेरे 25000 से अधिक का घाटा था पर मैने उसे होल्ड रखा उन पर 1111 रूपये डिवीडेंड लिया तथा आज सभी 185 शेयर एक साथ 3600 रूपये के लगभग मुनाफे के साथ बेच लिये अब इसमें स्टाॅप लाॅस होता तो मेरे तो 25000 पानी में चले गये होते। 

इसलिये मेरी पत्नी टर्टल ट्रेडिंग से ईटीएफ व निफटी 100 के शेयर लेती जरूर है पर बेचती खुद है किसी भी स्टाॅप लाॅस के सहारे हम नहीं बेचते। आपको खुद निर्णय करना है आपको स्टाॅप लाॅस ठीक है या नहीं पर हम तो एक शेयर में मात्र 10000 का निवेश ही करते हैं तथा इतना बैकअप रखते हैं कि 2 से 3 बार तक 10 प्रतिशत से ज्यादा ऐवरेज प्राईस से  गिरने के बाद किसी किसी शेयर में ऐवरेज भी हो सके व हम 10 से 15 प्रतिशत के बीच मुनाफा टर्टल ट्रेडिंग में मिल जाये तो शांति से ले लेते हैं व मूल पैसा रोटेट कर लेते हैं। कुल मिलाकर हम इसे ऐसे यूज करते हैं कि 55 दिन के हाई से 10 प्रतिशत से 20 प्रतिशत स्टाॅक का प्राईस कम हो तो हम जीटीटी आर्डर लगाना प्रारंभ कर देते हैं रोज उसे ताजा 55 दिन के हाई के अनुसार अपडेट करते हैं आर्डर ट्रिगर होने के बाद यदि 10 से 15 प्रतिशत मुनाफा मिल जाता है तो बुक कर लेते हैं यदि स्टाॅक गिर जाता है व यदि हमारे खरीद मूल्य से 10 प्रतिशत से ज्यादा गिरकर स्टाॅक फिर से उसके 55 डे के हाई से 10 से 20 प्रतिशत कम की रेंज में आ जाता है तो उसमें फिर से जीटीटी आर्डर अपडेट करते रहेगें व जब भी वो फिर से 55 डे के हाई पर आयेगा तब ऐवरेज हो जायेगा। 

इसके बाद तो 10 से 15 प्रतिशत प्रोफिट मिल ही जायेगा इस प्रकार अधिकतम 3 बार ऐवरेज 55 डे के हाई प्राईस पर ही करेगें व प्रत्येक ऐवरेज के प्राईस में कम से कम 10-10 प्रतिशत से ज्यादा का अतंर होना आवश्यक है। 

व हम 20 दिन के लो का स्टाॅप लोस नहीं रखते तथा सिर्फ ईटीएफ व निफटी 100 के शेयरों में ही टर्टल ट्रेडिंग करते हैं। 

यह सारी कहानी इसलिये सुनायी है कि इस विषय पर बहुत से ई मेल व कमेंट आ रहे थे कि जब फोलोवर्स बैक टेस्ट कर रहे हैं तो हिन्दूस्तान यूनिलीवर व ओनएनजीसी जैसे कतिपय शेयरों में कभी कभी 20 दिन के लो पर स्टाॅप लोस हिट हो रहा है इसलिये उनको हमारे मैथ्ड से अपडेट करवाया है।

matched content

My YouTube Channel

disclaimer:-Trading in stock market is very risky. This website is not perfect. This is not an advisory service to buy or sell. The contents of “maheshkaushik.com” are only for educational purposes. No liability is accepted for any content in “www.maheshkaushik.com”. Subject to pindwara(india) jurisdiction only. The author is neither a registered stockbroker nor a registered advisor and does not give investment advice.. While he believes his statements to be true, they always depend on the reliability of his own credible sources. The author recommends that you consult with a qualified investment advisor, one licensed by appropriate regulatory agencies in your legal jurisdiction, author of this website is not a trend technical analyst.